MENSTRUAL CUPS

Spread the love

MENSTRUAL CUPS – A BOON FOR FEMALES & ENVIRONMENT


A menstrual cup is a type of reusable feminine hygiene product utilized during menstruation. It’s a small, flexible funnel-shaped cup made of medical grade silicone that you insert into your vagina to catch and collect period fluid. The cup is removed, emptied, rinsed, and reinserted. 

Menstrual Cups are eco-friendly than sanitary pads and tampons. It’s a one-time cost per 3 to 4 years. Menstrual cups do not absorb blood, instead, it collects. You can leave a cup in your vagina for more than 7 hours. Experts say that it’s safer than tampon and pads because it has a very low chance of bacterial infection or any toxic shock syndrome because it does not come into the contact of air. And there is no chance of rashes at all. By using menstrual cups you will be more familiar with your periods.

Menstrual Cups are ideal for active women – No Leaks No Stains No Fears! Menstrual Cups will not dry your Vagina, while Tampons absorbs the blood but they also absorb everything else from your vagina!

You don’t have to worry about disposing of your waste – you can just empty it, clean it with water or tissue (water is a better option), and re-insert it. As they are not exposed to the air, they produce less odour than pads and tampons.

You can keep track of how much you are menstruating.It is very much comfortable.Varieties of cups are available on the basis of body shape and menstrual flow.Tampons result in cervical cancer, while menstrual cups does not.

WE NEED TO ACCEPT THE CHANGE, AND MOST IMPORTANTLY WE ARE NOT JUST SAVING MOTHER EARTH, WE ARE SAVING OUR OWN SELVES!!

Written by-

Vishwa Mistry


MENSTRUAL CUPS

मेंस्टुअल कप  एक वरदान और पर्यावरण के लिए ये उत्पाद एक ऐसा उत्पाद है जिसे हम दूबारा इस्तेमाल कर सकते है ये एकदम सुरक्षित और औरतों की स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है। ये एक छोटा, लचीला, कूपी के अाकार का कप है जो की मेडिकल ग्रेड सिलिकन से बनता है। जिसे आप अपनी योनी(vagina)  में डालकर महावारी का सारा खून ये सोक(absorb)  लेता है । इस कप को हटाने के बाद उसे खाली करके और धोकर के दोबारा इस्तेमाल मे लिया जा सकता। 

ये कप पर्यावरण के अनुकुल है, बजाय पेड और टैम्पून के इसकी लागत भी काफी कम है । ये कप खून को सोकने की बजाय उसे इकट्ठा करता है। आप अपनी योनी में इसे 7 घंटो से ज्यादा समय तक रख सकती हैं । विषेशग्अयो का कहना है की ये टैम्पून और पेड से ज्यादा सुरक्षित हैं। क्योंकी  इससे बेक्टीरियल इनफेक्शन्स होने की सम्भावना कम है। और ना ही किसी टॉक्सिक शॉक सिनड्रोम होने का खतरा है  एेसा इसिलिए क्योंकि ये कप वायु के सम्पर्क में नहीं  आते है। और इन से रेशज़ नही होते है इन्हें इस्तेमाल करने के बाद अाप अपनी महावारी को बोझ नहीं समझेंगी!

 ये कप्स सक्रिय महिलाओं के लिए  एक आदर्श उत्पाद है – ना दाग ना धब्बा और ना ही कोई डर! ये कप आपकी योनी को रूखा नहीं बनायेगा जबकि टैम्पून आपकी योनी से खून के साथ साथ ज़रूरी तत्व भी सोंक लेता हैं। आपको ये चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं की आप इसे कैसे फैंकेगी आप इसे  खाली करके, कप को पानी या टीशू की मदद से साफ कर सकती हैं। वैसे पानी बेहतर विकल्प हैं। और इसे वापस इस्तेमाल में ले सकती हैं।

ये कप हवा के सम्पर्क में ना आने के कारण पेड और टैम्पून के मुकाबले कम बदबू उत्पन्न करते है। ये काफी आरामदायक होते है । भिन्नशारिरीक संरचनाओं और रक्त प्रवाह को ध्यान में रखते हुए विविध प्रकार के कप बाज़ार में  उपलब्ध हैं।

टैम्पून इस्तेमाल करने के कारण सरवाइकल कैंसर होने की सम्भावना होती हैं जबकि कप से ऐसा कोई भी खतरा नहीं होता हैं। हमें इस बदलाव को अपनाने की ज़रूरत हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात हम केवल मातृभूमि को ही नहीं बल्कि अपने आप को भी बचाने के लिए ये कदम हमें उठाना ही चाहिए।

http://ws-in.amazon-adsystem.com/widgets/q?ServiceVersion=20070822&OneJS=1&Operation=GetAdHtml&MarketPlace=IN&source=ss&ref=as_ss_li_til&ad_type=product_link&tracking_id=jenishpatel00-21&marketplace=amazon&region=IN&placement=B01LXD9946&asins=B01LXD9946&linkId=8d0d7d848d926aea1200e943ef79feb0&show_border=true&link_opens_in_new_window=true 

written by –

विश्वा मिस्री

 

9 Comments

  1. It seems a revolutionary product indeed all the logics given are correct but lets see how good it is practically…if it is then its going to be a boon for female and for our environment…a thought to ponder …

Leave a Reply

Your email address will not be published.